राजस्थान: कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्र

राजस्थान: कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्र

राज्य की अर्थव्यवस्था में कृषि एवं सहायक होत्रों की महत्वपूर्ण भूमिका है। कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्र गतिविधियों में प्राथमिक रूप से फसल, पशुधन, वानिकी एवं मत्स्य सम्मिलित हैं। जीविकोपार्जन हेतु अधिकांश जनसंख्या कृषि एवं सहायक गतिविधियों पर निर्भर रहती है।

राजस्थान में कृषि मूलतः वर्षा पर आधारित है। राज्य में मानसून की अवधि कम हैं। राज्य में मानसून अन्य राज्यों की तुलना में विलम्ब से आता है एवं जल्दी ही चला जाता है। वर्षा की अवधि में भी उतार-चढ़ाव होता है। काशकारी वर्षा पर निर्भर है जो अपरा, कम एवं अनिश्चित हती हैं।

इसके बावजूद कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्र राज्य की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार रहा है एवं सकल राज्य घरेलू उत्पाद में इसका प्रमुख योगदान है।

राजस्थान कृषि उत्पादन:

राजस्थान कृषि उत्पादन (1)

प्रारम्भिक पूर्वानुमान के अनुसार राज्य में वर्ष 2018-19 में खाद्यान्न का कुल उत्पादन 218.29 लाख टन होने की सम्भावना है, जो कि गत वर्ष के 221.30 लाख टन की तुलना में 1.36 प्रतिशत कम है। वर्ष 2018-19 में खरीफ खाद्यान्न का उत्पादन 84.54 लाख टन होने की सम्भावना है, जो कि गत वर्ष के 81.19 लाख टन की तुलना में 4.13 प्रतिशत अधिक है। वर्ष 2018-19 में रबी खाद्यान्न उत्पादन 133.75 लाख टन होना अनुमानित है, जो कि गत वर्ष 2017-18 में 140.11 लाख टन की तुलना में 4.54 प्रतिशत कम है।

उद्यानिकी

राजस्थान में उद्यानिकी विकास की विपुल सम्भावनाएं हैं। यह ग्रामीण अर्थव्यवस्था में कृषि प्रसंस्करण एवं अन्य गौण गतिविधियों के माध्यम से ग्रामीण लोगों को अतिरिक्त रोजगार के अवसर उपलब्ध कराती है। उद्यानिकी विकास की विपुल सम्भावनाओं को देखते हुए सुनियोजित ढंग से क्षेत्रफल में वृद्धि, फल, सब्जियों, मसालों, फूलों व औषधीय पौधों के उत्पादन एवं उत्पादकता में वृद्धि के उद्देश्य से राज्य में वर्ष 1989-90 में पृथक से उद्यान निदेशालय की स्थापना की गई थी। वर्ष 2018-19 में राज्य आयोजना मद में प्रस्तावित ₹401.75 करोड के प्रावधान की तुलना में मार्च, 2019 तक ₹341.27 करोड़ व्यय किए गए हैं। राज्य आयोजना की योजनाओं में 80 हैक्टेयर क्षेत्र में फल बगीचों की स्थापना, 2,783 हैक्टेयर क्षेत्र में पौध संरक्षण उपाय एवं सब्जी के 2,437 प्रदर्शन लगाए गए हैं।

कृषि एवं सम्बद्ध क्षेत्र के लेख :

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: © RajRAS